Digital Rupee Kya Hai डिजिटल रूपी क्या है? क्या फायदे है? | 10 Best Benifits of Digital Currency in India

Digital Rupee Kya Hai?, डिजिटल रूपी क्या है? Digital Rupee in Hindi, Digital Currency in India, Digital Currency, Digital Currency in Hindi, Benifits of Digital Currency

मुद्रा किसी भी देश की इकोनोमी को चलाने के लिए जरूरी चीज है, यह हर किसी को प्रत्यक्ष (सीधे) रूप से प्रभावित करने में सक्षम है, पहले जहां हम किसी चीज के लेन-देन के लिए मुद्रा के रूप में कागज के नोट का इस्तेमाल करते थे, पिछले कुछ सालों में UPI के कारण लोग डिजिटल लेन-देन की तरफ शिफ्ट हुए है जो कि न सिर्फ सकारात्मक चीज है।

बल्कि यह समय के साथ जरूरी है कि हम समय के साथ खुद को एक नए टेक्नॉलजी के अंदर इन्वाल्व करें, क्योंकि टेक्नॉलजी की मदद से हम किसी काम को करने में जो फायदे ले सकते है वह अद्भुत है।

समय के साथ हमारी टेक्नॉलजी इम्प्रूव हो रही है इसी क्रम में एक नया नाम जुड़ा है Digital Rupee का, पहले से ही हमारी मुद्रा के लेन-देन के लिए फिजिकल नोट या फिर eWallet का इस्तेमाल करते हुए आ रहे है, Goverment आने वाले समय में हमें पैसे के लेन-देन के नए तरीके से परिचित कराने की तैयारी कर रही है।

Hello Friends, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर आज हम बात करने जा रहे है DIgital Rupee के बारे में, डिजिटल रूपी क्या है? (Digital Rupee Kya Hai), इसके क्या फायदे है?, हमें इसकी जरूरत क्यों पड़ी? इससे आने वाले समय में क्या बदलाव देखने को मिल सकते है?, डिजिटल रूपी का प्रयोग कैसे करें? और इससे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण चीजों के बारे में…. उम्मीद करता हूँ आपको यह पसंद आएगा।

Digital Rupee Kya Hai
Digital Rupee Kya Hai

डिजिटल रूपी क्या है? (Digital Rupee Kya Hai?) –

वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण जी (Finance Minister- Mrs. Nirmla Sitaraman) ने 1 फरवरी को केंद्रीय बजट 2022-23 पेश करते हुए घोषणा की थी कि आने वाले वित्तीय वर्ष में आरबीआई द्वारा डिजिटल रुपया या सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CDBC) जारी किया जाएगा।

सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी एक डिजिटल या वर्चुअल करेंसी है, जैसा कि हम इसके पहले भी Bitcoin, के रूप में देखते आये है, डिजिटल रूपी भी कुछ इसी तरह काम करेगा।

अन्य करेंसी और डिजिटल रूपी में एक सबसे बड़ा अंतर यह होगा कि डिजिटल रूपी को भारत सरकार के द्वारा चलाया जाएगा।

क्योंकि अभी के समय में हम सभी टेक्नॉलजी के ऊपर बहुत ज्यादा निर्भर हो गए है और हमारी टेक्नॉलजी निरंतर अपडेट हो रही है जिस कारण भविष्य में ब्लॉककचेन और क्रिप्टोकरेंसी जैसी चीजें आम होने वाली है।

इसलिए यह जरूरी है कि हमारी गवर्मेंट भी इस दिशा में कदम उठाते हुए इसे रेगुलेट करें और सही दिशा में इसका प्रयोग हो सके इसके लिए कदम उठायें जाएं।

जिसको देखते हुए भारत सरकार ने यह घोषणा की है कि आने वाले समय में लगभग एक साल के भीतर हमें डिजिटल करेंसी के रूप में एक भारतीय मुद्रा देखने को मिले, भारत को आधिकारिक डिजिटल मुद्रा अगले साल अप्रैल तक देखने को मिल सकती है।

इसकी शुरुआत कैसे हुई? –

भारत के पहले डिजिटल करेंसी की शुरुआत की बात करें तो ECNY प्रोजेक्ट के तहत चीन में 2020 में वहाँ की करेंसी युआन का परीक्षण शुरू किया गया, वहाँ के प्रमुख शहरों में रहने वाले लोगों को 200 डिजिटल युआन मुफ़्त में दिया गया, जिसको खर्च करने के लिए 14 दिनों का समय दिया गया, परीक्षण के समय दुकानदारों को इसे करेंसी नोट के जैसा ही मानने को कहा गया।

इस प्रोजेक्ट में युआन को डिजिटल रूप में प्रयोग करने का यह प्रयोग सफल रहा, आज चीन की डिजिटल युआन (करेंसी) को रेनमिनबी के नाम से सभी एप के द्वारा स्वीकार किया जा रहा है।

कुछ ऐसी ही पहल भारत में भी होने जा रही है, आम बजट में सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CDBC) को शुरू करने की घोषणा इसकी शुरुआत है, इससे न सिर्फ पारंपरिक लेन-देन का तरीका बदल जाएगा, बल्कि उद्योगों में भी पारदर्शिता आएगी।

डिजिटल रूपी का इस्तेमाल पारंपरिक रुपये के साथ होता रहेगा, यह सिक्के या नोट के जैसा ही है, फर्क सिर्फ इतना है कि इसका अस्तित्व डिजिटल होगा, क्योंकि आरबीआई के द्वारा इसे जारी किया जाएगा, इसलिए इसकी विश्वसनीयता वैसी ही रहेगी।

केवल भारत या चीन ही नहीं पूरी दुनिया के लगभग 14% देशों में हर देश की उसकी डिजिटल करेंसी का परीक्षण किया जा रहा है, जो कि अभी पायलट प्रोजेक्ट के रूप में काम कर रहे है, आने वाले समय में ऐसे बहुत से देश होंगे जो कि अपनी डिजिटल करेंसी का प्रयोग कर रहे होंगे।

इतना ही नहीं लगभग 60% देश ऐसे है जो, डिजिटल करेंसी के परीक्षण के लिए सिस्टम बना रहे है।

स्वीडन ने अपने डिजिटल करेंसी क्रोना का परीक्षण शुरू किया है और भी देश जैसे बाहामास ने परीक्षण के लिए डिजिटल सैंड अपने नागरिकों को दिया है, जैसा कि हमने चीन के बारे में पढ़ा है।

डिजिटल रूपी की क्या विशेषताएं है? –

डिजिटल रूपी अभी के समय में उपलब्ध किसी भी प्राइवेट कंपनी के द्वारा चलाए जा रहे वॉलेट की तरह ही होगी, लेकिन डिजिटल मुद्रा के साथ सरकारी गारंटी जुड़ी होगी।

रिजर्व बैंक द्वारा जारी डिजिटल मुद्रा में भारतीय करेंसी की तरह विशिष्ट अंक होंगे, यह अभी तक चली या रही मुद्रा से भिन्न नहीं होगी।

डिजिटल मुद्रा अभी तक जो नोट चले या रहे है उसका डिजिटल रूप ही होगा, साथ ही हम eWallet जैसे – UPI के माध्यम से जो पैसे भेजते है या रिसीव करते है वह नोट के ही समकक्ष होता है, तो कोई व्यक्ति किसी को पैसे भेजता है तो वह उस कंपनी में ट्रांसफर होता है उसके बाद रिसीवर के अकाउंट में जाता है।

रिजर्व बैंक द्वारा विकसित डिजिटल रुपया सभी लेन-देन का पता लगाने में सक्षम होगा, निजी कंपनियों के वॉलेट में अभी के समय में यह सुविधा नहीं मिलती है।

Digital Rupee के मामले में लोगों के पास डिजिटल मुद्रा यूजर के स्मार्टफोन में रहेगी और यह केन्द्रीय बैंक के पास होगी, और जब वह इसे किसी को भेजेगा तो अमाउन्ट रिजर्व बैंक के माध्यम से दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर होगी।

जहां अभी तक बैंक इसमें मिडीएटर की भूमिका निभाता है, डिजिटल मुद्रा के आने के बाद रिजर्व बैंक इसमें बीच की भूमिका निभाएगा, जिससे कि हर एक ट्रांजेक्शन का रिकार्ड रखा जा सकेगा।

डिजिटल रुपया साधारण UPI भुगतान से किस प्रकार अलग है?

वर्तमान में, UPI भुगतान मौजूदा मुद्रा नोटों के डिजिटल समकक्ष का उपयोग करके किया जाता है, ये सारे ट्रांजेक्शन बैंक, NPCI (UPI), से होकर RBI के पास जाते है।

इस सिस्टम में आरबीआई से सीधे किसी अकाउंट में ट्रांजेक्शन नहीं होता है, यह बैंक से बैंक के बीच Accounts में होता है।

डिजिटल रुपया अपने आप में अंतर्निहित भुगतान मोड होगा जिसका उपयोग मुद्रा/नकद के बदले डिजिटल भुगतान के लिए किया जा सकता है।

हर बैंक का एक अलग UPI हैंडलर होता है, डिजिटल रुपया आपके सामान्य रुपये की तरह ही है साथ ही इसका उपयोग सामान्य पेमेंट के तरीके जैसे NEFT, UPI के लेनदेन के लिए किया जा सकता है।

Prosetz Exchange के संस्थापक और निदेशक मनोज डालमिया ने कहा कि “यूपीआई के मामले में डिजिटल रुपया आरबीआई द्वारा संचालित किया जाएगा, न कि बैंक मध्यस्थों द्वारा, जहां प्रत्येक बैंक का एक अलग यूपीआई हैंडलर है”।

Digital Rupee अपने आप में अंतर्निहित भुगतान करने का तरीका होगा जिसका उपयोग मुद्रा/नकद के बदले डिजिटल भुगतान के लिए किया जा सकता है । “यूपीआई, आईएमपीएस आदि जैसे भुगतान रेल फंड ट्रांसफर करने के लिए अंतर्निहित मुद्रा / नकदी का उपयोग करते हैं।

मिहिर गांधी, पार्टनर और पेमेंट्स ट्रांसफॉर्मेशन लीडर, पीडब्ल्यूसी इंडिया ने कहा है कि “इस मामले में, यह उम्मीद की जाती है कि भुगतान का तरीका एक सहज भुगतान लेनदेन सुनिश्चित करने के लिए डिजिटल रुपये के साथ मिलकर काम करेगी”।

वर्तमान में, UPI भुगतान मौजूदा मुद्रा नोटों के डिजिटल समकक्ष का उपयोग करके किया जाता है। इसका मतलब है कि UPI के जरिए ट्रांसफर किया गया हर रुपया फिजिकल करेंसी से चलता है।

नियोबैंक फाई के सह-संस्थापक सुमित ग्वालानी ने कहा, “डिजिटल रुपया अपने आप में कानूनी निविदा होगा और जरूरी नहीं कि भौतिक मुद्रा द्वारा समर्थित हो।”

यह आर्टिकल भी पढ़ें –

यूपीआई आइडी क्या होता है? 5 Tips To Safe Your Account | UPI ID Kya Hota Hai?

पासवर्ड क्या होता है? अपने सोशल मीडिया अकाउंट को कैसे सुरक्षित रखें? Password Kya Hota hai? 5 Best Tips For Creating a Strong Password

ऑफलाइन पेमेंट क्या है? 5 Benefits Of Offline Payment | Offline Payment Kya Hai

नॉनब्लॉक्स ब्लॉकचैन स्टूडियो के संस्थापक और निदेशक विंशु गुप्ता ने कहा कि “यूपीआई भुगतान वर्तमान में आरबीआई के साथ लेनदेन करने वाले बैंकों के Settlement पर निर्भर करता है, डिजिटल रूपी सीधे आरबीआई से लेनदेन करेगा, इसलिए इसे तुरंत सुलझा लिया जाएगा”।

Digital Rupee Kya Hai
Digital Rupee Kya Hai

डिजिटल रूपी के क्या फायदे है? –

1. Efficient transfers – इसे आसानी से एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में Transfer किया जा सकता है।

2. Low transaction costs – डिजिटल करेंसी के लेन-देन में कम लागत आएगी, जहां पर UPI के ट्रांजेक्शन पर कुछ बैंक चार्ज लगा रहे है, इसपर इस तरह का कोई भी फीस नहीं होगी।

3. No physical damage – किसी भी तरह के नुकसान की कोई गुंजाइश नहीं होगी, Digital Rupee साधारण नोट की अपेक्षा ज्यादा सुरक्षित और विश्वसनीय है।

4. It will allow faster settlement of funds – यह पैसों को तेजी से सेटलमेंट करने की अनुमति देगा, जहां पर किसी दूसरी करेंसी या किसी अकाउंट में पैसे भेजने में 24 घंटे या कभी-कभी तो 36 घंटे भी लगते थे, इसके साथ ऐसा नहीं होने वाला है।

5. Lesser downtime – क्योंकि यह ब्लॉकचेन टेक्नॉलजी पर काम करने वाला सिस्टम है, इसलिए यह 24*7 काम करने में सक्षम होगा जो कि कहीं और नहीं देखने को मिलता है।

6. No Need for a Bank Account to Have a Digital Rupee – डिजिटल रूपी रखने य लेन-देन के लिए किसी भी प्रकार के बैंक अकाउंट की आवश्यकता नहीं होगी, हालांकि इसके लिए किसी न किसी अकाउंट की जरूरत पड़ेगी ही, लेकिन यहाँ हमारा मतलब बैंक अकाउंट से है।

7. Swift and smooth cross-border transactions – एक देश से दूसरे देश में पैसे भजने में बहुत आसानी होगी, पैसे कुछ ही समय में एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर कर पाएंगे।

8. benefits for the government – आज के समय में फिजिकल नोट छापना, चलाना, संभालना, सरकार एक लिए चुनौती है, CDBC ईन सभी समस्याओं से छुटकारा दिलाएगा, इसके साथ ही कालेधन और भ्रष्टाचार पर भी लगान लगेगी।

इतना ही नहीं फिजिकल नोट की मौजूदगी से मार्केट में नकली नोट भी देखने को मिलते है, जो कि किसी भी अर्थव्यथा के लिए गंभीर खतरा है, हमारी सरकारें लगातार इस दिशा में कदम बढ़ाती रही है कि किस तरह से नकली नोट को खत्म किया जा सकता है, 2016 में की गयी नोटबंदी से नकली नोटों के चलन को काफी हद तक कम किया जा सका है, लेकिन अभी भी नकली नोटों की मौजूदगी से इनकार नहीं किया जा सकता।

9. get rid of cash worries – आम लोग नगदी की सुरक्षा की चिंता से छुटकारा मिलेगा, फिजिकल नोट को संभाल कर रखना भी एक समस्या होती है, उसके चोरी हो जाने का हमेशा दर बना रहता है, डिजिटल रूपी के आने के बाद इसके साथ यह समस्या नहीं देखने को मिलगी।

10. beneficial to the public – जिन लोगों के पास बैंक खाते नहीं है, वे लोग भी बैंकिंग सिस्टम में शामिल हो सकेंगे, इसमें एप और फिनटेक कंपनियां अपने मंच से ग्राहकों को ऑफर दे सकती है।

अभी भी ऐसे बहुत से लोग है जो बैंकिंग सिस्टम से दूर है, Goverment का हमेशा से प्रयास रहा है कि भारत के हर नागरिक तक सुरक्षित बैंकिंग सिस्टम को पहुंचाया जा सके ताकि सभी इसका लाभ ले सकें, Digital Rupee इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

11. international business – 90 फीसदी अंतर्राष्ट्रीय कारोबार डॉलर में होता है ऐसे में यह बिल्कुल सही समय है कि डिजिटल रूपी को मजबूती और विश्वसनीयता से वैश्विक मंच पर पेश करें, जो कि हमारी अर्थव्यवस्था के बहुत ही फायदेमंद है।

12. The risk of losing money of home buyers will be reduced – कम होगा मकान खरीददारों का पैसा डूबने का जोखिम – डेवलपर्स एसोसिएशन नरेडको ने कहा है कि डिजिटल करेंसी की मदद से उद्योग का काम काग आसान होगा, इससे न सिर्फ पैसा डूबने का जोखिम कम होगा बल्कि ग्राहकों में भरोसा भी बढ़ेगा।

ऐसे ही ढेर सारी जानकारीयों के लिए, नए आर्टिकल ईमेल बॉक्स में पाने के लिए अभी सबस्क्राइब करें- 👇🏻

डिजिटल करेंसी और क्रिप्टोकरेंसी में क्या अंतर है?

एक बार तो देखने में ये दोनों बिल्कुल एक जैसे लगते है, लेकिन दोनों ऐसे कई सारे फर्क मौजूद है जो इन दोनों को अलग बनाते है, नीचे इसके बारे में चार्ट दिया गया है, जो ईन दोनों Technology के बीच अंतर को बताता है –

डिजिटल करेंसी क्रिप्टोकरेंसी
केन्द्रीय व्यवस्था के नियंत्रण में रहती है, यानि गोवर्मेंट और आरबीआई इसे नियंत्रित करते है। विकेंद्रीकृत (Decentralized) व्यवस्था में चलती है, इसपर किसी देश की सरकार या बैंक का नियंत्रण नहीं होता है।
इसके लिए कानूनी ढांचा भी बनाया जाता है, पहले से बने कानून में आवश्यक सुधार किये जा सकते है। क्रिप्टोकरेंसी किसी कानूनी ढांचे के अंतर्गत नहीं आती है।
डिजिटल करेंसी में लेन-देन गुप्त, किसी व्यक्ति ने दूसरे को कब और कितने रुपये दिए, यह जानकारी सार्वजनिक मंच पर दिखाए जाने की जरूरत नहीं होती है, और ईन सारे ट्रांजेक्शन पर आरबीआई और सरकार की नजर रहती है। यहाँ पर किए गए सभी लेन-देन का लेख जोखा वर्चुअल मंच पर सार्वजनिक रूप से उपलब्ध रहता है, बिटकॉइन की तरह इसे कोई भी देख सकता है, क्रिप्टोकरेंसी पूरी तरह से encrypted रहती है।

डिजिटल रूपी के क्या चुनौतियाँ है? –

Security – हमारे देश में आतंकवाद एक बड़ा खतरा है, जहां हमने बीते समय में इसका बुरा प्रभाव देखा है, गोवर्मेंट इससे सुरक्षित रखने के लिए कई बड़े कदम उठायें और आगे भी यह जारी है, डिजिटल करेंसी के साथ सिक्युरिटी भी एक बड़ी चुनौती है, जहां पर कोई भी कहीं से भी पैसे भेज सकता है।

Cyber ​​Crimes – डिजिटल करेंसी में सबसे बड़ा खतरा धोखाधड़ी या साइबर अपराध का है, इसे एक पुख्ता व्यवस्था से ही सुरक्षित रखा जा सकता है, साइबर ठगों से बचने के लिए, नागरिकों को इसके उपयोग को लेकर जागरूक करना भी एक चुनौती होगी।

Summery Of The Article –

तो दोस्तों डिजिटल रूपी क्या है? (Digital Rupee Kya Hai?) इसके बारे में यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं और यदि इस टॉपिक से जुड़ा आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो उसे नीचे कमेन्ट बॉक्स में लिखना न भूलें, इस आर्टिकल को लिखने में पूरी सावधानी रखी गयी है, फिर भी किसी प्रकार कि त्रुटि पाए जाने पर कृपया हमें जरूर बताएं।

ब्लॉग पर आने वाले नए पोस्ट कि नोटिफिकेशन अपने फोन में पाने के लिए, बेल आइकॉन को दबाकर नोटिफिकेशन को Allow करना न भूलें, साथ ही ऊपर दिए गए स्टार वाले आइकॉन पर क्लिक करके इस पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें, धन्यवाद 🙂

Digital Rupee Kya Hai इससे जुड़े अक्सर पूछे जाने वाले सवाल –

What is a digital rupee?

वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण जी (Finance Minister- Mrs. Nirmla Sitaraman) ने 1 फरवरी को केंद्रीय बजट 2022-23 पेश करते हुए घोषणा की थी कि आने वाले वित्तीय वर्ष में आरबीआई द्वारा डिजिटल रुपया या सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CDBC) जारी किया जाएगा।

सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी एक डिजिटल या वर्चुअल करेंसी है, जैसा कि हम इसके पहले भी Bitcoin, के रूप में देखते आये है, डिजिटल रूपी भी कुछ इसी तरह काम करेगा।

What is digital or virtual currency?

डिजिटल रूपी का इस्तेमाल पारंपरिक रुपये के साथ होता रहेगा, यह सिक्के या नोट के जैसा ही है, फर्क सिर्फ इतना है कि इसका अस्तित्व डिजिटल होगा, क्योंकि आरबीआई के द्वारा इसे जारी किया जाएगा, इसलिए इसकी विश्वसनीयता वैसी ही रहेगी।

Which country started digital currency?

भारत के पहले डिजिटल करेंसी की शुरुआत की बात करें तो ECNY प्रोजेक्ट के तहत चीन में 2020 में वहाँ की करेंसी युआन का परीक्षण शुरू किया गया, पूरी दुनिया के लगभग 14% देशों में हर देश की उसकी डिजिटल करेंसी का परीक्षण किया जा रहा है इतना ही नहीं लगभग 60% देश ऐसे है जो, डिजिटल करेंसी के परीक्षण के लिए सिस्टम बना रहे है।

What is digital currency based on?

डिजिटल करेंसी केन्द्रीय व्यवस्था (Centralized) के नियंत्रण में रहती है, यानि गोवर्मेंट और आरबीआई इसे नियंत्रित करते है।

Advantages of digital currency?

डिजिटल करेंसी के एक नहीं बहुत से फायदे है, जैसे Efficient transfers, Low transaction costs, No physical damage, Lesser downtime, Lesser downtime इत्यादि, इसके बारे में ज्यादा जानने के लिए यह आर्टिकल पढ़ें।

हमारे फेसबुक पेज को फॉलो करें

यह आर्टिकल भी पढ़ें-

PM WANI योजना क्या है? इंटरनेट बेचकर पैसे कैसे कमाएं | 5 Best Benefits of PM WANI Yojana in Hindi

Photoshop कैसे सीखे? Basic से Advance कोर्स की पूरी जानकारी | Photoshop Kaise Sikhe- TechEnter.in

यूपीआई आइडी क्या होता है? 5 Tips To Safe Your Account | UPI ID Kya Hota Hai?

पासवर्ड क्या होता है? अपने सोशल मीडिया अकाउंट को कैसे सुरक्षित रखें? Password Kya Hota hai? 5 Best Tips For Creating a Strong Password

ऑफलाइन पेमेंट क्या है? 5 Benefits Of Offline Payment | Offline Payment Kya Hai

5/5(12 votes)
Spread the love

A Student, Digital Content Creator, Passion in Photography... Founder of Tech Enter. यहाँ पर आपको, योजना, एजुकेशन, गैजेट्स रिव्यू, टेक्नॉलजी, क्रिप्टो, पैसे कमाने के तरीके, फैशन& लाइफस्टाइल तथा ढेर सारे टॉपिक्स से जुड़ी जानकारियां मिलती रहेंगी Follow Us » Facebook Instagram Twitter Quora

Leave a Comment