द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय जन्म,शिक्षा,करियर,अवार्ड्स,इंटरव्यू | Draupadi Murmu Biography in Hindi

Draupadi Murmu Biography in Hindi | द्रौपदी मुर्मू जीवन परिचय | Draupadi Murmu Jivani | द्रौपदी मुर्मू जीवनी | date of birth, caste, age, husband, family, income, daughter, rss, president, sons, qualification, politician party, religion, education, awards, profession, career, politics career, interview, speech etc.

आने वाली 18 जुलाई को भारत में राष्ट्रपति पद के लिए मतदान होना है, इसके पहले रामनाथ कोविन्द का कार्यकाल पूरा होने के बाद अब देश को नया राष्ट्रपति मिल सकता है।

भारतीय जनता पार्टी की ओर से “द्रौपदी मुर्मू” को उम्मीदवार बनाया गया है जो कि आने वाले समय में अगर भाजपा की महिला उम्मीदवार “द्रौपदी मुर्मू” चुनाव जीत जाती हैं तो वह भारत की दूसरी महिला राष्ट्रपति होंगी।

राष्ट्रपति का पद देश का सर्वोच्च पद होता है, इसपर बैठने वाला व्यक्ति बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता है, इसलिए यह जरूरी है कि हमें अपने राष्ट्रपति के बारे में जानकारी अवश्य हो।

Hello Friends, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर आज हम बात करने जा रहे है “द्रौपदी मुर्मू” के बारे में, ये कौन है? इनके व्यक्तिगत जीवन और राजनीतिक करियर के बारे में (Draupadi Murmu Biography in Hindi), उम्मीद करता हूँ आपको यह पसंद आएगा।

उड़ीसा के आदिवासी समुदाय से संबंध रखने वाली और उड़ीसा राज्य में पैदा हुई द्रौपदी मुर्मू जी को हाल ही में भारतीय जनता पार्टी (NDA) के द्वारा भारत के अगले राष्ट्रपति के पद के उम्मीदवार के तौर पर सिलेक्ट किया गया है, द्रौपदी मुर्मू उड़ीसा की आदिवासी महिला नेता हैं और झारखंड की गवर्नर रह चुकी हैं।

Draupadi Murmu Biography in Hindi
Draupadi Murmu Biography in Hindi, Draupadi Murmu Biography in Hindi

द्रौपदी मुर्मू जीवनी, द्रौपदी मुर्मू जीवन परिचय, Draupadi Murmu Jivani (Draupadi Murmu Biography in Hindi) –

“द्रौपदी मुर्मू” का जन्म ‘ओडिशा’ राज्य के ‘मयूरभंज’ जिले के “बैदापोसी” गांव में 20 जून 1958 को एक “संथाल आदिवासी” परिवार में हुआ था, ये संताल आदिवासी फैमिली से संबंध रखती हैं, इनके पिता का नाम ‘बिरंची नारायण टुडू’ था, जो अपनी परंपराओं के अनुसार, गांव और समाज के मुखिया थे।

द्रौपदी मुर्मू का पालन पोषण इनके दादा जी ने किया था, उस समय इनके दादा पंचायती राज में इनके गांव के सरपंच हुआ करते थे, ‘द्रोपदी मुर्मू’ ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा एक निजी स्कूल से प्राप्त की।

स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के बाद उच्च शिक्षा के लिए इन्होंने “रामा देवी महिला कॉलेज” भुवनेश्वर उड़ीसा में दाखिला लिया जहां उन्होंने कला स्नातक (B.A.) में ग्रेजुएशन की डिग्री ली।

पढ़ाई पूरी होने के बाद इनका विवाह “श्याम चरण मुर्मू” से हुआ, जिनसे द्रौपदी मुर्मू को तीन संताने हुई जिनमे दो बेटे और एक बेटी इति श्री हुई, लेकिन दुर्भाग्यवश उसकी मृत्यु हो गई और उनके पति श्री श्याम चरण मुर्मू भी नहीं रहे।

द्रौपदी मुर्मू ने ”श्री अरबिंदो इंटीग्रल एजुकेशन” में एक मानव सहायक प्रोफेसर के रूप में काम किया, फिर इसके बाद अनुसंधान, टायरंगपुर और फिर उड़ीसा के ‘सिंचाई विभाग’ में ‘कनिष्ठ सहायक’ के रूप में काम किया। Draupadi Murmu Biography in Hindi

पूरा नाम द्रौपदी मुर्मू
पिता का नाम बिरांची नारायण टुडू
पेशाराजनीति
पति श्याम चरण मुर्मू (स्वर्गीय)
बेटीइतिश्री मुर्मू (शादीशुदा)
पार्टीभारतीय जनता पार्टी
जन्मतिथि20 जून 1958
आयु 64 वर्ष
जन्मस्थानमयूरभंज, उड़ीसा, भारत
लंबाई और वजन 5 फिट 4 इंच, 74 kg
जाति और धर्मअनुसूचित जनजाति, हिन्दू
रुचि लेखन (कविता)
भारतीय जनता पार्टी से जुड़ीसाल 1997

द्रौपदी मुर्मू का राजनीतिक करियर –

द्रौपदी मुर्मू ने एक अध्यापक के रूप में अपने करियर की शुरुआत की और फिर इसके बाद ओडिशा में ही अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की।

“द्रौपदी मुर्मू” ने 1997 में भारतीय जनता पार्टी के साथ राजनीति में प्रवेश किया, इसी साल 1997 में पार्षद के रूप में चुनाव जीतकर अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की, इसी साल, इन्हें भाजपा के एसटी मोर्चा का राज्य उपाध्यक्ष चुना गया।

साल 2000 और 2009 में ये मयूरभंज के रायरंगपुर से दो बार, भाजपा के टिकट पर विधायक रहीं, अपने इस राजनीतिक जीवन में पार्टी के अंदर कई प्रमुख पदों पर कार्य किया है।

उड़ीसा में उस समय भारतीय जनता पार्टी और बीजू जनता दल गठबंधन सरकार के दौरान, वह 6 मार्च 2000 से 6 अगस्त 2002 तक वाणिज्य और परिवहन मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) थीं।

तथा इसके बाद 6 अगस्त 2002 से 16 मई 2004 तक मछली पालन और विकास राज्य मंत्री थी के पद को संभाला और 2002 से 2009 तक भाजपा के एसटी मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य रही, इसके बाद 2006 से 2009 तक भाजपा के एसटी मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष रही।

साल 2013 से 2015 तक भगवा पार्टी की एसटी मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारी सदस्य भी रही थीं और इसी दौरान 2015 से 2021 तक झारखंड की माननीय राज्यपाल रही।

श्रीमती मुर्मू झारखंड की नौवीं राज्यपाल रह चुकी है और केवल इतना ही नहीं, वर्ष 2000 में गठन के बाद से पाँच साल का कार्यकाल (साल 2015 से 2021 तक) पूरा करने वाली झारखंड की पहली राज्यपाल रही है।

इनके राजनीतिक जीवन में एक बड़ा मोड तब आया जब भारतीय जनता पटरी की तरफ से इन्हें, राष्ट्रपति पद के लिए उमीदवार (नामित) बनाया गया।

यदि ये इस पद के लिए निर्वाचित हो जाती है तो देश की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति होंगी और भारत में दूसरी महिला राष्ट्रपति (पहली महिला राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटील थी) होंगी।

द्रौपदी मुर्मू का राजनीतिक जीवन एक नजर में –

उड़ीसा विधानसभा में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार के तौर पर द्रौपदी मुर्मू को साल 2000 से लेकर के साल 2004 तक ट्रांसपोर्ट और वाणिज्य डिपार्टमेंट संभालने का मौका मिला।

वर्ष 2002 से लेकर के साल 2004 तक उड़ीसा गवर्नमेंट के राज्य मंत्री के तौर पर पशुपालन और मत्स्य पालन डिपार्टमेंट का कार्यभार ग्रहण किया।

इसके बाद वर्ष 2002 से लेकर के साल 2009 तक यह भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य रही।

इसी दौरान भारतीय जनता पार्टी के एसटी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष के पद पर साल 2006 से लेकर के साल 2009 तक काम किया।

इसके बाद एसटी मोर्चा के साथ ही “भारतीय जनता पार्टी” (बीजेपी) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मेंबर के पद पर यह साल 2013 से लेकर के साल 2015 तक रही

इसके बाद इन्हें साल 2015 में झारखंड का राज्यपाल बनने का गौरव प्राप्त हुआ और इस पद पर ये साल 2021 तक आसीन रही।

द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu Biography in Hindi) के बारे में जानने के लिए इस विडिओ को देख सकते है –

चर्चा में क्यों है –

अभी तक अधिकांश लोग ‘द्रौपदी मुर्मू” (Draupadi Murmu Biography in Hindi) के बारे में नहीं जानते थे परंतु हाल ही में चार-पांच दिनों से यह काफी चर्चा में हैं, जल्द ही देश के सर्वोच्च पद यानी राष्ट्रपति पद के लिए 18 July 2022 को मतदान होना है।

रामनाथ कोविंद का कार्यकाल पूरा होने के बाद अब देश को नया राष्ट्रपति मिल सकता है, भाजपा की ओर से राष्ट्रपति पद के लिए महिला उम्मीदवार हैं तो वहीं विपक्ष की तरफ से “यशवंत सिन्हा” को उम्मीदवार बनाया गया है।

भारतीय जनता पार्टी की महिला उम्मीदवार का नाम ‘द्रौपदी मुर्मू” है, 24 जून को ये अपना नामांकन दाखिल करेंगी,अगर भाजपा की महिला उम्मीदवार चुनाव जीत जाती हैं तो वह भारत की दूसरी महिला राष्ट्रपति बन जाएंगी।

आपको बता दें कि इसके पहले “श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटिल” को भारत की पहली महिला राष्ट्रपति होने का गौरव प्राप्त हुआ था, अब एक बार फिर से एक महिला देश के सर्वोच्च पद पर आसीन होने से बस एक कदम दूर हैं।

यदि ‘द्रौपदी मुर्मू” भारत की राष्ट्रपति बन जाती है, तो यह भारत की पहली ऐसी आदिवासी महिला होगी, जो भारत देश के राष्ट्रपति पद को संभालेंगी, साथ ही यह दूसरी ऐसी महिला होंगी, जो भारत देश के राष्ट्रपति के पद को संभालेंगी। Draupadi Murmu Biography in Hindi

द्रौपदी मुर्मू कौन है?

आने वाली 18 जुलाई को भारत में राष्ट्रपति पद के लिए मतदान होना है, भारतीय जनता पार्टी की ओर से “द्रौपदी मुर्मू” को उम्मीदवार बनाया गया है जो कि आने वाले समय में अगर भाजपा की महिला उम्मीदवार “द्रौपदी मुर्मू” चुनाव जीत जाती हैं तो वह भारत की दूसरी महिला राष्ट्रपति होंगी।

द्रौपदी मुर्मू का जन्म कहां हुआ?

“द्रौपदी मुर्मू” का जन्म ‘ओडिशा’ राज्य के ‘मयूरभंज’ जिले के “बैदापोसी” गांव में 20 जून 1958 को एक “संथाल आदिवासी” परिवार में हुआ था, ये संताल आदिवासी फैमिली से संबंध रखती हैं, इनके पिता का नाम ‘बिरंची नारायण टुडू’ था, जो अपनी परंपराओं के अनुसार, गांव और समाज के मुखिया थे।

द्रौपदी मुर्मू की राजनीतिक उपलब्धियां कौन सी है?

उड़ीसा विधानसभा में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार के तौर पर द्रौपदी मुर्मू को साल 2000 से लेकर के साल 2004 तक ट्रांसपोर्ट और वाणिज्य डिपार्टमेंट संभालने का मौका मिला, वर्ष 2002 से लेकर के साल 2004 तक उड़ीसा गवर्नमेंट के राज्य मंत्री के तौर पर पशुपालन और मत्स्य पालन डिपार्टमेंट, वर्ष 2002 से लेकर के साल 2009 तक यह भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य रही, इसके बाद एसटी मोर्चा के साथ ही “भारतीय जनता पार्टी” (बीजेपी) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मेंबर के पद पर यह साल 2013 से लेकर के साल 2015 तक रही… साल 2015 – 21 में झारखंड का राज्यपाल बनने का गौरव प्राप्त हुआ।

झारखंड की पहली महिला राज्यपाल कौन है?

द्रौपदी मुर्मू

द्रौपदी मुर्मू किस समुदाय से ताल्लुक रखती हैं?

द्रौपदी मुर्मू एक “संथाल आदिवासी समुदाय” से संबंध रखती है।

यह आर्टिकल भी पढ़ें –

UP Ration Card List यूपी राशन कार्ड [2022] की लिस्ट देखें 

स्वामित्व योजना क्या है?

PM WANI योजना क्या है इंटरनेट बेचकर पैसे कैसे कमायें?

Summery Of Article –

तो दोस्तों, द्रौपदी मुर्मू जीवन परिचय (Draupadi Murmu Jivani, Draupadi Murmu Biography in Hindi) के बारे में यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं और यदि इस टॉपिक से जुड़ा आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो उसे नीचे कमेन्ट बॉक्स में लिखना न भूलें, इस आर्टिकल को लिखने में पूरी सावधानी रखी गयी है, फिर भी किसी प्रकार की त्रुटि पाए जाने पर कृपया हमें जरूर बताएं।

ब्लॉग पर आने वाले नए पोस्ट कि नोटिफिकेशन अपने फोन में पाने के लिए, बेल आइकॉन को दबाकर नोटिफिकेशन को Allow करना न भूलें, साथ ही ऊपर दिए गए स्टार वाले आइकॉन पर क्लिक करके इस पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें, धन्यवाद 🙂

रोज कुछ नया सीखें, हमारे Instagram पेज को फॉलो करें –

5/5(1 vote)
Spread the love

A Student, Digital Content Creator, Passion in Photography... Founder of Tech Enter. यहाँ पर आपको, योजना, एजुकेशन, गैजेट्स रिव्यू, टेक्नॉलजी, क्रिप्टो, पैसे कमाने के तरीके, फैशन& लाइफस्टाइल तथा ढेर सारे टॉपिक्स से जुड़ी जानकारियां मिलती रहेंगी Follow Us » Facebook Instagram Twitter Quora

Leave a Comment