नेटवर्क मार्केटिंग क्या है इसे कैसे शुरू करें? | Network Marketing Kya Hai? 5 Best Tips To Be Successful in Network Marketing

Network Marketing Kya Hai, वैसे तो आज के समय में पैसे कमाने के हजारों तरीके है, चाहे ऑनलाइन हो या ऑफलाइन आज के समय में ऐसे बहुत से मौके है जिनमें एक अच्छा करियर स्टार्ट कर सकते है।

लेकिन आज हम बात करने जा रहे है एक ऐसे करियर के बारे में जिसे ऑफलाइन तो किया जा सकता है साथ ही ऑनलाइन इंटरनेट कि मदद से भी इसे और ज्यादा बड़ा कर सकते है।

Hello Friends, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर आज हम बात करने जा रहे है, नेटवर्क मार्केटिंग के बारे में, नेटवर्क मार्केटिंग क्या है? (Network Marketing Kya Hai) नेटवर्क मार्केटिंग के क्या फायदे है? नेटवर्क मार्केटिंग क्यों करना चाहिए? नेटवर्क मार्केटिंग कैसे करें? नेटवर्क मार्केटिंग में क्यों लोग फेल हो जाते है? और इससे जुड़े बेहतरीन टिप्स के बारे में बात करेंगे जो आपको कहीं और नही मिलेंगे, उम्मीद करता हूँ आपको यह पसंद आएगा।

network marketing kya hai
network marketing kya hai

Table of Contents

Network Marketing Kya Hai? नेटवर्क मार्केटिंग क्या है?

नेटवर्क मार्केटिंग एक ऐसा बिजनेस है जिसमें आप लोगों को इसमें जोड़ते है है उन्हें संभावित लीडर्स के रूप में परिवर्तित करते है।

इसे MLM (Multi Level Marketing) या डायरेक्ट सेलिंग (Direct Selling) के नाम से भी जाना जाता है।

यह एक बेहतरीन बिजनेस मॉडल है चीजों (प्रोडक्ट) को ग्राहकों तक पहुंचाने का, जो कि आपको किसी और इंडस्ट्री में नही देखने को मिलता, इसके बिजनेस आईडिया के कारण ही इक्कीसवीं सदी का सबसे बेहतरीन बिजनेस मॉडल कहा गया है।

पहले से चली आ रही बाजार व्यवस्था से हटकर इस बिजनेस में किसी उत्पाद को सीधे कस्टमर तक पहुंचाया जाता है, जिसपर कंपनी… यूजर या ग्राहक को लाने और सामान को सेल कराने वाले मिडल मैन को कुछ पैसे कमीशन के रूप में मिलते है।

अपने साथ एक यूजरबेस और अपने टीम में हमारे ही तरह के लोगों के काम करने के कारण एक नेटवर्क बन जाता है, इसलिए इसे नेटवर्क मार्केटिंग कहा जाता है और जो व्यक्ति ये काम करता है उसे नेटवर्कर कहा जाता है।

यह दुनिया का एकमात्र ऐसा बिजनेस है जो सबसे ज्यादा तेजी से सबसे अच्छे स्टैबल करोड़पति बना सकता है, इसमें पाए जाने वाले Compounding Efect की वजह से इसे तेजी से ग्रो करना बहुत ही आसान है।

लेकिन यह तभी आपके लिए काम करेगा जब आप इसके बेसिक नियमों को समझें, जिस तरह से किसी स्कूल या कॉलेज मे एडमिशन लेने के बाद हमें उसके सलेबस को पढ़ना पड़ता है ठीक उसी तरह नेटवर्क मार्केटिंग में भी जुडने के बाद उसको सीखना पड़ता है।

Network Marketing Kya Hai इसके बारे में जानकारी मिल गयी होगी आगे हम इससे जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण चीजों के बारे में बात करेंगे।

नेटवर्क मार्केटिंग क्यों करना चाहिये या इसके क्या फायदे है?

1. Passive Income –

किसी जॉब में हमें सैलरी तब तक मिलती है जब तक हम जॉब पर टाइम से पहुंचते हैं वहां समय देते है तो हमारे द्वारा दिये गए उसी समय के बदले हमें पैसे मिलते हैं।

नेटवर्क मार्केटिंग इससे अलग है यहां शुरुआत में पैसे नही के बराबर या कम मिलते है, जैसे-जैसे बिजनेस में आपके साथ लोग जुड़ते चले जाते हैं, टीम बड़ी होती जाती है, धीरे-धीरे इनकम बढ़नी शुरू होती है।

शुरूआत में जॉब कि तुलना में नेटवर्क मार्केटिंग में ज्यादा मेहनत करनी पड़ती इसमें 80:20 रेश्यो काम करता है, जिसका मतलब है आप अपना 80% मेहनत (प्रयास) करेंगे तो 20% रिजल्ट मिलेगा, जब एक बार आप अपने लक्ष्य तक पहुंच जाते है, तो फिर आपको 20% मेहनत करने पर 80% रिजल्ट मिलता है।

यह पैसिव इनकम (Passive Income) का सबसे अच्छा सोर्स है, इसको एक साधारण भाषा में समझें तो कोई फसल जैसे गेहूं चावल इत्यादि ये जो फसले है इनसे उपज लेने के लिए लिए हर साल खेत में लगाना पड़ता है और उस दौरान लगातार इसकी देखभाल भी करनी होती है।

इससे अलग कोई फल देने वाला बड़ा आम का पेड़ है तो उसे लगाने पर फल लेने के लिए तीन से चार साल देखभाल करनी पड़ती है, जिसके बाद ही फल मिलना शुरू होता है।

इन दोनों विधियों में अंतर यह है कि किसी फसल से हमें 90 से 100 दिनों में ही उत्पाद मिल जाता है, लेकिन इसे हर साल लगातार लगाना पड़ता है और इसमें मेहनत हर बार लगती हैं

जबकि एक आम का पेड़ जिससे शुरुआत के तीन-चार साल में कुछ नही मिलता लेकिन जब वह एक बार फल देना शुरू करता है तो वह अगले 100-150 सालों के लिए फल देता रहता है, इसमें बाद में हमें मेहनत नही करनी पड़ती है।

नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing Kya Hai) आम के पेड़ की तरह है, इसे शुरुआत में बिना रिजल्ट की चिंता किये, काम करते रहना है, जब इसमें एक बार इनकम शुरू होती है तो फिर वह लगातार मिलती रहती है, बस इसमें अपनी टीम की देखभाल करते रहना है।

2. Positive Aproch-

नेटवर्क मार्केटिंग में काम करने वाला व्यक्ति को नेगेटिव लोगों से अक्सर सामना होता है, लेकिन इसमें आगे बढ़ने और लगातार सीखते रहने की इच्छा शक्ति हर तरह के नेगेटिव चीजों से सामना करने की स्किल डेवलप कर देती है।

एक नेटवर्कर फील्ड में रोज कुछ न कुछ आवश्य सीखता है और ये लगातार सीखने रहने की इच्छा जीवन में भी आने वाले किसी भी नेगेटिव चीजों से लड़ने की इच्छाशक्ति पैदा कर देती है।

network marketing kya hai
network marketing kya hai

3. लीवरेज सेक्टर –

कोई व्यक्ति जॉब करता है तो उसकी डयूटी के हिसाब से ही सैलरी मिलती है, जितनी ज्यादा मेहनत व करेगा उतना ज्यादा पैसा उसको मिलेगा, लेकिन वह जिसके लिए वह काम कर रहा है वो मालिक उस व्यक्ति के द्वारा किये गए काम से पैसे कमाता है

यदि उसके ऑफिस में 100 लोग है और प्रत्येक व्यक्ति 8 घंटे काम करते है तो रोजाना 800 घंटे का काम वे अपने मालिक के लिए करते है, जो कि अकेले किसी व्यक्ति के द्वारा किये जा रहे काम के घंटों की तुलना में बहुत कम है।

नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing Kya Hai) दुनिया का सबसे बड़ा लिवरेज सेक्टर है, लिवरेज का मतलब होता है किसी बड़े काम को करने के लिए एक छोटे से काम का सहारा लेकर करना।

लिवरेज दो तरह से होता है-

पैसे का लिवरेज- बड़े-बड़े बिजनेसमैन ज्यादा पैसा लगाकर काम करते है और उसमें कम पैसे लगाकर मजदूर रखकर काम करवाते है, इसमें जिसमें अधिक मुनाफा कमाकर अमीर बन जाते है।

समय का लिवरेज- अपने बिजनेस में ज्यादा लोगों को वेतन पर नौकरी देकर काम करवाते हुए अपने रोज के घंटे को कई गुना बढ़ा देना और ज्यादा पैसे कमाना।

दुनिया के जितने भी उद्योगपति है वो लिवरेज सेक्टर की वजह से ही अमीर हुए है, सभी उद्योगपतियों ने अपने काम करने के घंटे को बढ़ाया है, उसी तरह नेटवर्क मार्केटिंग में भी अपनी टीम बना कर अपने काम के घंटे को बढ़ा सकते है और लीवरेज का पूरा फायदा उठा सकते है।

नेटवर्क मार्केटिंग में कोई भी व्यक्ति सिस्टम से काम करके अमीर बन सकता है उसके लिए न पढ़ाई की जरूरत है न पैसों की, केवल उसके अंदर अमीर बनने की इच्छा शक्ति होनी चाहिए।

किसी भी क्षेत्र में चाहे धर्म के क्षेत्र में हो, राजनीति के क्षेत्र में हो या किसी उद्योग के क्षेत्र में हो, इसमें सफल सभी लोग लिवरेज से ही सफल हुए है।

जब आपको आम आदमी का लिवरेज मिलने लगता है तो आप सफलता की सीढ़ियां चढ़ने लगते है और एक ऐसा वक्त भी आता है जब आप खुद को सफल व्यक्ति के रूप में देखते है।

4. आप अपना चेक खुद तय करते है –

इस बिजनेस में मिलने वाली सैलरी निश्चित नहीं होती आपके काम और सकिल के अनुसार यह कम और ज्यादा हो सकती है, लेकिन एक बार जब आपने इसे सही से समझकर सेटअप कर दिया तो उसके बाद इनकम घटने के कम चांस होते है और हमेशा यह पिछले महीने से ज्यादा आती है।

नेटवर्किंग का बिजनेस वो बिजनेस है जिसमें आप अपना चेक खुद लिखते है कि महीने का कितना पैसा आपको चाहिए, इसकी यह क्वालिटी इसको बाकी के बिजनेस से अलग बनाती है और खास भी।

5. Freedom Of Time समय की आजादी –

शुरुआत में इसमें बहुत मेहनत करनी पड़ती है, लेकिन धीरे-धीरे बिजनेस के बढ़ने के साथ समय की आजदी मिलती है, याद रखिए कि “जो व्यक्ति सोते समय पैसे नहीं कमा सकता है वह जिंदगी भर मेहनत करता है।”

जीवन में एक बात याद रखें कि “अधिक पैसे कमाने से आजादी नहीं मिलती बल्कि पैसे कमाने कि स्वतंत्रता से आजादी मिलती है”, नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing Kya Hai) हर किसी को यह मौका देता है कि लोग अपने सपने को पूरा करें, ताकि जब आप बिजनेस ना भी कर रहे हो तो पैसे आपके अकाउंट में आते रहें।

6. Build More Relation अधिक लोगों के साथ जुड़ाव –

इस बिजनेस में रोज अनेकों प्रकार के नए लोगों से मिलने का मौका मिलता है, जिनसे बहुत कुछ सीखने का मौका मिलता है, क्योंकि ज्यादा लोगों के साथ जुड़ाव होने और संबंध होने से हमारा समाजिक स्तर ऊंचा होता है।

अधिक लोगों से मिलना आपके बिजनेस में सफलता और निरंतर आगे बढ़ते रहने की निशानी है, यह न सिर्फ अधिक पैसे कमाने की स्वतंत्रता देता है बल्कि, प्रसिद्ध भी बनाता है।

7. Extreme Respect –

ये चीज मैने केवल इसी बिजनेस में देखी है, कि लोग एक दूसरे का कितना रिस्पेक्ट करते है, वे आपको इतना सम्मान देते है जिसकी कोई सीमा नहीं है।

चाहे अप लाइन हो या डाउन लाइन आप थोड़ा स भी ध्यान देंगे तो पाएंगे कि इस बिजनेस में आने के बाद व्यक्ति के जीवन में बोलने और दूसरों कि रेसपेक्ट करने का जो भाव आता है वह किसी और बिजनेस में नहीं आता है और यही इस बिजनेस की खासियत है।

हो सकता है कि आपके मन में आये कि ये सब कुछ पैसे के लिए या लोगों को फँसाने के लिए होता है या इसमें अप लाइन का फायदा है, तो आप गलत नहीं सोच रहे है, लेकिन ये भी सोचिए कि क्या इस दुनिया में ऐसा कोई भी रिश्ता है जिसके पीछे कोई लालच न छुपा हो, आप 10 मिनट बैठ कर सोचिए।

हर चीज को लालच या फायदे के नजरिए से देखना सही नहीं है, क्योंकि आज जहां कहीं भी काम करते है या करेंगे वहाँ पर भी आपका मालिक, आपका बॉस प्रॉफ़िट ही देखेगा उसी के हिसाब से प्रमोशन और सैलरी मिलती है।

8. Recurring Business Model रीकरिंग बिजनेस मॉडल –

एक बार जब आप यहाँ अपनी एक टीम बना लेते है, तो उसकी मदद से पैसे हमेशा आते रहते है, चाहें आप रहें या ना रहें एक बार इस बिजनेस में टीम सेटअप करने के बाद जितनी भी इनकम हो वह जिंदगी भर मिलती है।

एक बार जब ग्राहक को प्रोडक्ट पसंद आ जाता है तो वह जितनी बार समान खरीदता है, आपको पैसे मिलते है, Recurring Business Model इस बिजनेस को खास बनाता है।

9. Safe Job सुरक्षित जॉब –

इस बिजनेस में आपकी जॉब सरकारी नौकरी (Goverment Job) से भी ज्यादा सिक्योर है यदि वह फ्रॉड कंपनी नहीं है तो।

हम सारी जिंदगी पैसे के पीछे भागते रहते है, हम, हमारे बच्चे, उनके बच्चे ऐसे ही यह पीढ़ी दर पीढ़ी परंपरा चलती रहती है और सभी ने यह न सिर्फ अनुभव किया है बल्कि रोजाना देखते आ रहे है।

नेटवर्क मार्केटिंग मे यदि आपने अच्छे से काम कर लिया तो फिर आपको पैसे कि तो सोचने की कोई जरूरत नहीं है, ऊपर वाला न करे काभी आप इस दुनिया में न रहे तो भी, इस बिजनेस से आपके अगली पीढ़ी यानि आपके नॉमिनी ( बच्चे या पत्नी) को ये सारा सिस्टम ट्रांसफर हो जाता है, उनके खाते में पैसे उसी तरह आते रहेंगे जैसे आपके अकाउंट में आते है।

अगर वो आगे काम ना भी करें और थोड़ा स भी टीम को मेंटेन करके रखें तो भी जीवनभर पैसे आने की गारंटी रहती है, और यह पीढ़ी दर पीढ़ी चलती रहती है।

10. Small Investment कम लागत –

यह एक ऐसा बिजनेस है जिसे कम इनवेस्टमेंट मे भी शुरू किया जा सकता है, कुछ कंपनियां है जो रजिस्ट्रेशन के नाम पर 5000-10,000 रुपये लेती है, लेकिन कुछ ऐसी भी कंपनियां है जिनसे जुडने के लिए कोई भी चार्ज नहीं होता है और इसके बारे में हम आगे आपको बताएंगे।

शायद ही ऐसा कोई शानदार बिजनेस होगया जो थोड़ी सी लागत में शुरू किया जा सके और जीवन भर इनकम आने की गारंटी मिलती हो वो भी पैसे कमाने की आजादी के साथ।

11. Open Market खुला बाजार –

नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing Kya Hai) एक ओपन मार्केट है, आप भारत में या किसी भी देश में जाकर इस बिजनेस को कर सकते है, अगर कोई नेटवर्क मार्केटिंग कॉम्पनी इंटरनेशनल है और आपकी टीम से कोई भी व्यक्ति भारत के बाहर काम कर रहा है तो आपको उसके पैसे मिलते है और काफी ज्यादा मिलते है।

आप अपनी टीम के लिए कहीं से भी लोगों को चुन सकते है पता नहीं कब आपका कोई टीम मेम्बर आपके लिए एक इंटरनेशनल बिजनेस्स खड़ा कर दे, ओपन मार्केट का यह सिस्टम आपको इस बिजनेस के अलावा कहीं और नहीं देखने को मिलेगा।

12. Magic of Compounding कंपाउंडिंग का जादू –

नेटवर्क मार्केटिंग का बिजनेस कंपाउंडिंग एफ़ेक्ट पर काम करता है, कंपाउंडिंग एफ़ेक्ट की शुरुआत में तो कुछ भी पता नहीं चलता लेकिन कुछ समय बात अचानक से यह इतना बड़ा हो जाता है, कि एक आम इंसान इसके जादू के बारे में तो सोच भी नहीं सकता।

आप अपने टीम में केवल 5 लोगों को शामिल करते है, और ये 5 लोग अपने नीचे 5 लोगों को शामिल करते है, अब आपकी टीम में कुल 130 लोग हो गए, लेकिन शुरुआत में आपने केवल 5 बेहतरीन लोगों को जो आपके बिजनेस को समझ पाए उन्ही को जोड़ने में मेहनत की बाकी का काम आपकी टीम ने कर दिखाया।

अब अगर आपकी टीम के ये 125 नए लोग 3-3 लोगों को भी लाते है तो आपकी टीम में कुल 500 से ज्यादा लोग हो जाते है, लेकिन अभी भी आपने केवल शुरू के 5 बेहतरीन लोग को खोजने में मेहनत की है, यही है कंपाउंडिंग इफ़ेक्ट।

नीचे इस कहानी के माध्यम से इस इफ़ेक्ट की विशालता के बारे में कुछ अनुमान लगा सकते है-

एक राजा जो कि बहुत दयालु थे और पनि प्रजा को कुछ भी देने के लिए हमेशा देने के लिय तैयार रहते थे, एक बार वे शतरंज खेल रहे थे और उनकी प्रजा में से एक साधू उनके पास आये और बोले- राजन मैं आपसे कुछ मांगना चाहता हूँ…
राजा ने कहा – मांगों साधू महाराज, आपको क्या चाहिए?

साधू ने कहा – मुझे आपसे कुछ नहीं… बस थोड़े चावल के दाने चाहिए।

राजा ने कहा – तौहीन !! आप मुझसे कुछ भी मांग सकते है, फिर ये कुछ चावल के दाने क्यों?

साधू ने कहा – नहीं राजन मुझे कुछ ही चावल के अनाज चाहिए बस मेरी एक शर्त है, कि ये जो आपका शतरंज है इसके पहले खाने में एक चावल का दाना और दूसरे खाने दो चावल के दाने और तीसरे खाने में चार चावल के दाने इसी प्रकार हर खाने में चावल के दाने की संख्या दुगुनी करती जाएं।

राजा ने कहा – ठीक है साधू महाराज और उसने अपने सिपाहियों को आदेश दिया कि साधू के लिए चावल के दाने लाए जाएं, इसके बाद सारे सिपाही चले गए और कुछ देर के बाद दौड़ते हुए वापस आये, त्राहिमाम त्राहिमाम त्राहिमाम राजन गजब हो गया।

राजा ने कहा – क्या हुआ?

सिपाही बोले – महाराज वो साधू बहुत, बुद्धिमान है वह जितना अनाज मांग रहे है उतना अनाज तो आजतक पृथ्वी पर उगा ही नहीं है।

इतना सुनने के बाद राजा आश्चर्यचकित रह गए…

सिपाही बोले – राजन इन चावल के दानों की संख्या डबल होते-होते 18,446,744,073,709,551,615 दाने होते है और इतने अनाज आजतक पूरी पृथ्वी पर नहीं हुए है, इसका एक चौथाई हिस्सा भी दस माउंट एवरेस्ट के बराबर है।
माउंट एवरेस्ट के बारे में न पता हो तो मैं बता दू कि यह दुनिया कि सबसे ऊंचा पर्वत है जो 8848 मीटर ऊंचा है।

network marketing kya hai
network marketing kya hai

नेटवर्क मार्केटिंग बिजनेस कैसे काम करता है? –

जब कोई प्रोडक्ट मार्केट में आता है तो उसकी कुछ न कुछ कीमत अवश्य होती है, यदि हम मान कर चलें कि कोई बिस्किट का पैकेट 10 रुपये का है, जब हम 10 रुपये देकर इसको खरीदते है तो हमें लगता है, इसके पैकेट के अंदर मौजूद बिस्किट बनाने में 10 रुपये लगे है, इसीलिए तो हमसे इतने पैसे लिए जा रहे है।

जबकि वास्तव में ऐसा नहीं है इस पैकेट में, बिस्किट को बनाने के लिए रॉ मैटेरियल के साथ-साथ पैकिंग का खर्च, Advertizement का खर्च, बिस्किट बनाने वाली कंपनी का प्रॉफ़िट, होल सेलर का मुनाफा, फिर डिस्ट्रिब्यूटर का लाभ, इसके बाद आता है दुकानदार का प्रॉफ़िट ये सारी चीजें उसी बिस्किट के पैकेट की कीमत के अंदर मौजूद रहती है जिसे हम 10 रुपये में खरीदते है।

प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी ➡ डिस्ट्रिब्यूटर ➡ होल सेलर ➡ फुटकर विक्रेता (दुकानदार)➡ उपभोक्ता

तो इस हिसाब से देखें तो पैकेट के अंदर बिस्किट कि वास्तविक कीमत 3 रुपये से भी कम होती है, उसको पैकेट में भरने के बाद अलग-अलग जगहों पर कमीशन के कारण ग्राहक तक पहुंचते-पहुंचते इसकी कीमत 10 रुपये हो जाती है।

नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing Kya Hai) में यही प्रोडक्ट फैक्ट्री में बनने के बाद कंपनी के एक प्रोसेस सिस्टम से होकर डायरेक्ट कस्टमर के पास पहुंचता है, इसलिए बीच में प्रोडक्ट पर लगने वाली कमीशन की कीमत बच जाती है और यही नेटवर्क मार्केटिंग में अलग-अलग लेवल पर नेटवर्कर में डिसट्रिब्यूट हो जाती है।

नेटवर्क मार्केटिंग बिजनेस को करने के लिए कितनी मेहनत करनी पड़ेगी? –

लाखों की चार पहिया गाड़ी कितनी भी तेज दौड़े लेकिन वह चलेगी रोड पर ही, क्योंकि उस गाड़ी के पहिये सड़क पर चलने के लिए डिज़ाइन किये गए है।

तीन करोड़ का छोटा सा जहाज जब हवाई पट्टी पर तेज गति से दौड़ेगा तो वह उड़ने लगेगा, क्योंकि हवाई जहाज का डिज़ाइन हवा में उड़ने के लिए डिज़ाइन किया गया है, हवाई जहाज में लगी हुई मशीन पंख को आवश्यक ऊर्जा देने के साथ-साथ हवा में उड़ने में मदद करती है।

पंख ही है जो जहाज को हवा में ले जाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है, जब हवाई जहाज उड़ने के लिए तेज गति से दौड़ता है तो इस दौरान उसके चारों इंजन फुल स्पीड से एक साथ चलते है, और इससे पंखे फुल क्षमता से घूमते है, जिसकी ताकत से जहाज जमीन छोड़कर हवा में उड़ने लगता है।

सभी इंजन की ताकत पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण बल को पीछे छोड़ते हुए हवा में ऊपर उठने में मदद करती है, जब हवाई जहाज काफी ऊपर आकाश में एम स्टेट एण्ड लेवल में आ जाता है तो तीन इंजन बंद कर देते है, अब जहाज हवा में अपने पंखों के सहारे तैरने लगता है।

उसे ज्यादा पावर की जरूरत नही पड़ती, आगे जाने के मोमेंट को बनाये रखने के लिए एक इंजन चलता रहता है और केवल एक इंजन की मदद से जहां जाना होता है वहां चला जाता है।

लेकिन क्या आप जानते है, जहाज को ऊपर उड़ते समय सबसे ज्यादा तेल (ईंधन) की जरूरत पड़ती है, यदि कोई जहाज दिल्ली से मुंबई जा रहा है तो केवल उड़ान भरते समय 90% तेल लगता है और बाकी के 10% तेल में वह पूरी दूरी तय कर लेता हैं।

नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing Kya Hai) भी कुछ जहाज के जैसा ही है, यहां शुरुआत में आपको बहुत मेहनत (80%) करनी होती है, और रिजल्ट बहुत कम (20%) होता है, जितना ज्यादा बड़ी टीम (इंजन) होगी उतना तेजी से आपका बिजनेस दौड़ेगा, उतने ही ज्यादा इनकम के पंख आपको ऊंचाई पर ले जाएंगे और जितना ज्यादा टीम में लोगों को इनकम होगी उतना ज्यादा आप आगे बढ़ते जाएंगे, लिवरेज का फायदा उठाते हुए।

नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing Kya Hai) कंपनी कैसे ज्वाइन करें?

किसी भी नेटवर्किंग कंपनी के साथ जुड़ना हो तो उसके रजिस्ट्रेशन फॉर्म को भरना पड़ता है, जिसके बाद बड़ी ही आसानी से किसी भी कंपनी में जुड़ा जा सकता है, किसी भी कंपनी को ज्वाइन करने से पहले इन बातों का ध्यान जरूर रखें ऐसी कंपनियों से कभी न जुड़ें –

1. पिरामिड या चेन स्कीम –

इस तरह की कंपनियां अक्सर आपको नुकसान ही देती है, पिरामिड या चेन स्कीम में आप जुडने के बाद अपने ही जैसे और लोगों को लाते है और इस तरह से ग्रुप बनता है लेकिन इसमें ध्यान रखने वाली बात यह है कि आपको पैसे तभी मिलते है जब आप चेन कंप्लीट करते है।

जैसे कुछ कंपनियां है जो अपने नीचे लेफ्ट-राइट में तीन लोगों को जोड़ने पर चेक देती है तो जब तक आपके नीचे टीम लोग नहीं हो जाते आपको पैसे नहीं मिलेंगे।

ऐसी कंपनियों से दूर रहे क्योंकि ऐसे कंपनियों में जो भी अपलाइन से टीम बनती है, वह आपके नीचे लेफ्ट या राइट किसी एक ओर जोड़ते जाते है, जबकि दूसरी ओर आपको खुद लोगों को लाकर जोड़ना होता है, जिससे चेन बनने पर आपको चेक मिलता है।

ऐसे कंपनियों में आप देखेंगे कि आपकी जो एक साइड (leg) है उसमें बहुत से लोग जुड़ जायेंगे काफी लंबी लिस्ट देखने को मिलेगी और जो दूसरी लेग है जिसमें केवल आपको लोगों को जोड़ना होगा वो बढ़ती ही नहीं है।

2. प्लान पर फोकस –

दूसरा ऐसी हर कंपनी से दूर रहना है जो प्लान लेकर आ रही है आपको केवल प्लान पर फोकस करने को बोला जा रहा है, प्रोडक्ट पर नहीं, ध्यान रखिए कोई कंपनी अगर बार-बार केवल प्लान के ऊपर ही ध्यान देने कि कोशिश कर रही है तो वह आपके जैसा केवल नेटवर्कर बना रही है जबकि आपको ये नहीं बनना है।

इस बिजनेस में प्लान होना जरूरी है क्योंकि यही इस सिस्टम का आधार होता है लेकिन कंपनी जो प्रोडक्ट बना रही है उसपर ज्यादा ध्यान होना चाहिए आपके लीडर का, आपके कंपनी ऑफिसियल पर्सन का, प्रोडक्ट ही है जहां से सेल आने पर कमीशन मिलेगा।

केवल लोगों को जोड़कर कितना पैसा कमा लेंगे, अगर जुडने में 10,000 रुपये लग रहे तो भी एक बार आम आदमी सोचता है कि इस बिजनेस में कुछ इनकम कर सकते है कि नहीं, यदि जुडने के बाद उसे भी पता चले कि उसको भी अपने के जैसे 10-20 लोगों को लाना है तो फिर इससे आपकी क्रेडीबिलिटी खत्म होने लगती, लोग आपकी इज्जत नहीं करते।

3. People & Philosophy –

जिस कंपनी में आप जुडने जा रहे है, तो उसमें ये चीजें जरूर देखें जिसे –
उस कंपनी का सिद्धांत क्या है?
क्या कोई Binding Force है जो लोगों को जोड़कर रखती है?
क्या उस कंपनी के लोगों में बहुत अच्छा कल्चर है?
क्या कंपनी में एक बेहतर लिडरशिप है?
क्या कंपनी में नए लोगों की ट्रैनिंग और मेथड पर बहुत अच्छा ध्यान दिया जा रहा है?
क्या कंपनी में लर्निंग और डेवलपमेंट पर फोकस किया जा रहा है?

अगर ये सारी चीजें आपने अनुभव से किसी कंपनी के अंदर नहीं देखने को मिल रही है तो सावधान हो जाएं, क्योंकि ऐसे कंपनियां चलेंगी ही नहीं, अगर कंपनी में बार-बार केवल प्रॉफ़िट के बारे बात किया जा रहा है और कल्चर केवल प्रॉफ़िट-प्रॉफ़िट के बारे में बात कर रहा है।

कंपनी में कोई फिलोसोफी और नहीं है तो आप इस कंपनी से दूर रहे तो बेहतर रहेगा, अगर कंपनी में जाने के बाद आपका अनुभव अच्छा नहीं लग रहा तो दूर ही रहे।

इस बिजनेस में काम करने के लिए सपने होना अलग बात है लेकिन किसी कारण या मोटिव का होना भी जरूरी है, आपका सपना आपको काम करने के लिए प्रेरित करता है लेकिन आपकी कंपनी का आपकी टीम का मोटिव आपके टीम को काम करने के लिए प्रेरित करता है।

4. प्रोडक्ट की कीमत –

प्रॉडक्ट की कीमत सही हो, अक्सर ये देखने को मिलता है कि नेटवर्क मार्केटिंग के अंदर कोई भी प्रोडक्ट है तो उसकी कीमत काफी ज्यादा रखी होती है।

यदि प्रोडक्ट मंहगा भी है तो चलेगा लेकिन ये जरूर देखना है कि उसके इतना महंगा होने के पीछे कोई ठोस कारण है कि नही, प्रोडक्ट लाइन की एक खास बात होनी जरूरी है।

कहीं ऐसा तो नही कोई साधारण सा मार्किट में मिलने वाला बिस्कुट है जिसे बस पैक करके बेचा जा रहा है, जिसे नया जुडने वाला व्यक्ति कुछ दिनों या महीनों तक तो मोटिवेशन के चक्कर में खरीद लेगा लेकिन बाद में लंबे समय तक नहीं खरीद पाएगा।

प्रोडक्ट ऐसा हो कि लोग खरीदते समय ये न ध्यान में रखे कि ये नेटवर्क मार्केटिंग का प्रोडक्ट है और यह तभी संभव है जब प्रोडक्ट का जादू चले कहने का मतलब यह है कि कोई एक बार उसे प्रयोग करे तो उसका लाभ मिलना चाहिए, तभी तो ग्राहक स्टोर पर दोबारा खरीदने जाएगा।

ध्यान रखिए अगर प्रोडक्ट बढ़िया है तो नेटवर्कर को बिजनेस करना बहुत ज्यादा आसान हो जाता है, बस उसे केवल एक बार लोगों तक पहुंचाने की जरूरत है।

5. Recurring Uses रीकरिंग यूज –

कंपनी में जो भी प्रोडक्ट बेच रहे है, उसका रीकरिंग यूज होना जरूरी है, भले ही कमीशन थोड़ी कम मिले लेकिन प्रोडक्ट ऐसा हो जिसे लोग बार-बार खरीदे , कई सारी कंपनियां है जो नेटवर्क मार्केटिंग में सूट का कपड़ा, इलेक्ट्रॉनिक आइटम, शो पीस इत्यादि बेचती है।

इन सब प्रोडक्ट बेचने वाली कंपनी से दूर रहें, मान लीजिए आपने अपने दोस्त को कंपनी मे जोड़ने के बाद कपड़ा दिला भी दिए तो क्या वो दोबारा आपकी कंपनी में कपड़ा खरीदेगा, उत्तर है – नहीं… खुद सोचिए आप कितने लोगों को कपड़े बेच पाएंगे।

ऐसी कंपनी से जुड़े जिसमें खाने-पीने की चीजें हेल्थ से जुड़ी चीजें मौजूद हो, लेकिन उसकी एक खास बात हो जिसे आप लोगों के सामने उस मजबूत पक्ष के साथ रख पायें।

6. Trust विश्वास –

आप जो भी प्रोडक्ट किसी के सामने ल रहे है उसपर खुद का विश्वास होना जरूरी है, साथ ही अगर यूजर इसे खरीद रहा है तो उसका विश्वास इसपर होना जरूरी है और यह तभी संभव हा इजब प्रोडक्ट में क्वालिटी होगी या उसकी कोई युनीक चीज होगी जो बाकि कहीं और न मिलती हो ताकि कस्टमर दोबारा ढूँढता हुआ आपके पास आये।

यह आर्टिकल भी पढ़ें –

Photoshop कैसे सीखे? Basic से Advance कोर्स की पूरी जानकारी | Photoshop Kaise Sikhe- TechEnter.in

अभी पढ़ रहे है – नेटवर्क मार्केटिंग क्या है इसे कैसे शुरू करें? | Network Marketing Kya Hai? 5 Best Tips To Be Successful in Network Marketing

यूपीआई आइडी क्या होता है? 5 Tips To Safe Your Account | UPI ID Kya Hota Hai?

ऑफलाइन पेमेंट क्या है? 5 Benefits Of Offline Payment | Offline Payment Kya Hai

PM WANI योजना क्या है? इससे पैसे कैसे कमाएं? | 5 Best Benefits of PM WANI Yojana in Hindi

नेटवर्क मार्केटिंग कैसे करें? –

1. Make A List एक लिस्ट बनायें –

नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing Kya Hai) में सफल होने के लिए सबसे पहले और महत्वपूर्ण चीज है तो वह है, अपने जान पहचान से जुड़े लोगों की एक लिस्ट बनाना।

हर व्यक्ति के जीवन में उससे जुड़े हुए कुछ लोग अवश्य होते है, जैसे फैमिली, रिलेशन, दोस्त, आफिस कलीग, बिजनेस फ़्रेंड्स इत्यादि।

अक्सर लोगों को लगता है नेटवर्क मार्केटिंग मैं कर सकता हूँ लेकिन इतने लोगों को मैं कहां से ले आऊंगा, आपके इस प्रश्न का सबसे बेहतर जवाब है, लोगों की लिस्ट बनाइये।

लिस्ट बनाना इसका सबसे पहला स्टेप है, इसलिए बिजनेस शुरू करते समय कम से कम 200 नामों की लिस्ट जरूर होनी चाहिए, यह लिस्ट अपनी नोटबुक में बनाये, मोबाइल या दिमाग में नही होना चाहिए।

नेटवर्क मार्केटिंग में ऐसा देखने को मिलता है कि बड़ी लिस्ट बनाने वालों ने कम समय में सफलता प्राप्त की है, बड़ी लिस्ट बनाने से आपका मनोबल हमेशा ऊंचा रहता है और ऊंचा मनोबल ही आपकी सफलता की गारण्टी है।

इसलिए जितनी ज्यादा लंबी लिस्ट होगी आपके सफल होने के चांस उतने ही बढ़ते ही जायेंगे (इसके और भी कारण है), इसलिए जब आप किसी नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी को जॉइन कर रहे है उसी समय से या उससे पहले से ही एक लिस्ट बनाना शुरू कर दें।

कोशिश करें इसे एक डायरी में लिखें और पूरे दिन में जब भी कोई नाम मन में आये उसे तुरंत अपनी डायरी में लिखें, ऐसा करने से एक दो दिन में ही आप देखेंगे कि आपके पास एक लंबी लिस्ट बन जाएगी।

लिस्ट बनाते समय ध्यान रखने योग्य बातें –

  • नामों की लिस्ट बनाते समय पहले से अंदाज न लगाएं कि अमुक व्यक्ति काम करेगा या नही।
  • स्पॉन्सर या अपलाइन की मदद लें
  • परिवार के लोग, दोस्त, रिश्तेदार जहां पहले रहते थे और अब जहां रहते वहां के लोगों का नाम लिखें
  • नए लोगों से पहचान बनाएं और लिस्ट अपडेट करते रहें
  • आपके साथ नौकरी या व्यवसाय से जुड़े लोगों के नाम लिखे।
  • जिन लोगों के साथ आपका रोज व्यवहार होता है जैसे, डॉक्टर, वकील, बनिया, लॉन्ड्री, दूध वाला, चाय वाला, सोसायटी में रहने वाले लोगों की लिस्ट बनायें।
  • लिस्ट हमेशा अपडेट रखनी चहिये, रोज कम से कम दो लोगों के नाम जुड़ने चाहिये।

ऐसे ही ढेर सारे ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए, नए आर्टिकल ईमेल बॉक्स में पाने के लिए अभी सबस्क्राइब करें- 👇🏻

2. एक अच्छी टीम बनाएं –

“कहते है कि तेज चलना हो तो अकेले चलिए और दूर चलना हो तो किसी को साथ लेकर चलिए” अगर बात पैसे कमाने की हो तो नेटवर्क मार्केटिंग पर यह लाइन सटीक बैठती है, जहां पर आपकी टीम ही सबकुछ है आपकी टीम में जितने अच्छे आपके साथ देने वाले होंगे उतनी ही अच्छी तरक्की आप करते जाएंगे.

इसलिए यह बेहद जरूरी है कि आपकी टीम मजूबत हो, वे खुद से अपने लिए फैसले लेने में सक्षम हो , यह याद रखिए जितनी बेहतर आपकी टीम होगी आपका लक्ष्य उतना ही आसान हो जाएगा।

एक अच्छी टीम बनाने के लिए आपके पास एक लंबी लिस्ट का होना जरूरी है, क्योंकि जितने ज्यादा लोगों के नाम आपके पास होंगे आप उतन ही ज्यादा लोगों से मिलेंगे।

टीम को साथ लेकर चलें-

आपकी टीम नेटवर्क बिजनेस में सबकुछ है, कहा जाता है कि “आपका नेटवर्क ही आपका नेटवर्थ है” इसलिए समय-समय पर अपने टीम से जरूर मिले यदि फुल टाइम इस जॉब को कर रहे है तो रो या एक-दो दिन के गैप पर लोगों से जरूर मिले और पूछे कि पिछले दिनों में उन्होंने कितने लोगों से मुलाकात की प्लान दिखाया।

अगर वो आपको फोन न भी करें तो आप उन्हें जरूर फोन करें और एक नियत समय पर करें इससे आपका टाइम मैनिज्मन्ट बेहतर रहेगा, अपने टीम के लोगों की परेशानी बोलने में दिक्कत आदि को समझे और उसे दूर करने की कोशिश करें।

हो सके तो जो भी सदस्य अच्छा काम कर रहे हो उन्हें उनके काम के लिए सम्मानित जरूर करें इससे उनका मनोबल ऊंचा रहेगा, काम करने के लिए और प्रेरित होंगे।

लिस्ट को अपडेट करते रहें-

लिस्ट तैयार करना इस बिजनेस के लिए सफलता की चाभी के समान है, इसलिए अपनी लिस्ट में हमेशा नए लोगों के नाम लिखें और इस टास्क को रोज करने की कोशिश करें, इस बिजनेस में आपकी सफलता का आधार आपकी लिस्ट से ही बनता है।

रोज प्लान दिखायें-

लिस्ट बनाने के बाद आता है प्लान दिखाना, जब हम किसी काम को रोज, लगातार, बार-बार करते है तो उसमें महारथ हासिल हो जाती है।

ध्यान रखिए रोज प्लान दिखाना आपके लिए नए टीम मेम्बर की ज्यादा संभावनाएं बनाता है, इसलिए एक व्यक्ति ही सही लेकिन रोजाना प्लान दिखाने की आदत डालें।

रोज सीखें-

रोज नई चीजें सीखना आपके ज्ञान के स्तर को बढ़ाता है, शिक्षा काभी व्यर्थ नहीं जाती, रोज कुछ सीखना आपको कभी ऐसे मोमेंट पर हीरो बना देगी जब आप महत्वपूर्ण जगहों पर सही और सटीक जवाब दे सकें।

network marketing kya hai
network marketing kya hai

लोगों से मिलने के लिए (प्रॉस्पेक्टिंग)के लिए कुछ सुझाव –

  • अपनी सूची में उन लोगों का नाम लिखने की कोशिश कीजिए, जो समाजिक और आर्थिक स्तर पर आपके समान या आपसे ऊपर हों।
  • यह याद रखें कि इस Business से मिलने वाली हर चीज लोगों को चाहिए।
  • आप जहां भी जाएं लोगों से बातचीत करने का अभ्यास कीजिए।
  • अपने आसपास के लोगों के संभानध में जागरूकता रखिए।
  • ऐसा नजरिया रखिए जिससे यह लगे कि आप केवल दोस्ताना बढ़ाने कि कोशिश कर रहे है।
  • यह अपना लक्ष्य बना लीजिए कि रोज कम से कम एक व्यक्ति से जरूर मिलेंगे।
  • लोग काटने के लिए नहीं दौड़ते, वे आपको नुकसान नहीं पहुंचाएंगे, इसलिए यह डर अपने मन से निकाल दें।
  • जितने ज्यादा लोगों से आपकी मुलाकात होगी यह काम उतना ही आसान होता जाएगा, इसलिए बिल्कुल सहजता से मुलाकात कीजिए।
  • शुरुआती संपर्क में यदि कोई गलती भी हो जाये तो इसमें घबराने की कोई जरूरत नहीं है।
  • जब आपको यह बात समझ जाती है कि आप लोगों को अपना बिजनेस प्लान दिखाकर, वास्तव में उनके फायदे की ही बात कर रहे है, तब लोगों से बात करना आसान हो जाता है।
  • लोगों से मुस्कुराकर हाय-हैलो कीजिए, आपके हावभाव से दिखना चाहिए,जैसे आप कह रहे हो मैं आपको पसंद करता हूँ, आपका दोस्त हूँ, आपका शुभचिंतक हूँ।
  • किसी ऐसे विषय को खोजिए जो आप दोनों के लिए दिलचस्प हो उसी विषय पर चर्चा कीजिए।
  • याद रखिए… लोग केवल अपने विचारों, अपने परिवार इत्यादि के बारे में ही चर्चा करना पसंद करते है इसलिए उनके विषय के बारे में ही चर्चा करना बेहतर होता है।
  • लोगों द्वारा शुरू किये गए विषय पर ही चर्चा कीजिए, यानि विषयांतर करने से बचिए, उनसे प्रश्न पूछिए और उन्हें ही बातचीत करने दीजिए।
  • लोगों के साथ गपशप करना सीखिए, बातचीत बंद करने वाले छोटे जवाबों को अच्छी नजर से नहीं देखा जाता।
  • F.O.R.M. मतलब फेमिली, ऑक्युपेशन, रीक्रीएशन, मनी (पैसे) को अपनी बातचीत का आधार बनाइए।
  • हो सके तो अपना बिजनेस कार्ड अपने पासरखिए ताकि तुरंत सामने वाले व्यक्ति को जरूरत पड़ने पर दिया जा सके।

इस बिजनेस के बारे में लोगों को कैसे बताएं? –

अगर आपने अपनी डायरी बना ली है और उसमें कम से कम 200 लोगों के नाम, फोन नंबर, जॉब इत्यादि को लिख लिया है तो धीरे-धीरे लोगों से संपर्क करना शुरू करें, लोगों से संपर्क और अपने घर पर बुलाकर इन दो तरीकों से प्लान या कंपनी के प्रोडक्ट के बारे में समझा सकते है-

1- जिज्ञासा जगाकर – इस तरीके के अप्रोच में कंपनी का नाम आता ही नहीं आप अपने अपलाइन से सलाह करके कोई तरीके का इस्तेमाल कर सकते है, यह मेथड तब सही है जब आप किसी को प्रोडक्ट के बारे में बता रहे हो, न कि बिजनेस प्लान के बारे में।

2- डायरेक्ट अप्रोच – डायरेक्ट अप्रोच की सबसे ज्यादा सफलता अपने दोस्तों, रिश्तेदारों से फोन पर या सामने बैठकर समझाने से मिलती है, सबसे ज्यादा सफलता जब आप व्यक्तिगत लोगों से आमने-सामने बैठकर बात करते है तो मिलती है क्योंकि एक-दूसरे की प्रतिक्रियाओं ठीक से संभाल सकते है और सामने वाले के सवालों के जवाब दे सकते है।

बात करते समय आप बिजनेस कर प्रति कमिटेड, कॉन्फिडेंट और उत्साहित है, आपको अपने बिजनेस पर भरोसा है यह सामने वाले व्यक्ति को आप में दिखना चाहिए।

उदाहरण के लिए- हैलो अमन, सुनो यार मुझे इस वक्त तुम्हारी बहुत जरूरत है, एक बहुत बढ़िया बिजनेस दिमाग में आया है, मैंने तो ऐसा मौका अपनी जिंदगी में पाया ही नहीं यार, अभी पिछले हफ्ते ही (कंपनी का नाम) के बारे में पता चला, मुझे नहीं मालूम था कि इससे इतना पैसा कमाया जा सकता है।

यार मै चाहता हूँ कि तुम इस प्रोग्राम को देखो, क्या तुम सोमवार या बुधवार को शाम में मेरे घर आ सकते हो, कुछ बड़े बिजनेस मैं मेरे घर प्रेजेंटेशन के लिए आ रहे है, मै चाहता हूँ कि तुम भी यहाँ रहो, क्या तुम मेरी मदद कर सकते हो?

नए लोगों को कैसे गाइड करें? –

नेटवर्क बिजनेस में जो आदमी शुरू में जॉइन करता है तो उसके अंदर एक बड़ा उत्साह रहता है, उस समय वो सीखने के मूड में रहता है ,क्योंकि उसे बिजनेस के बारे में कोई जानकारी नहीं रहती है।

जॉइनिंग के 48 घंटे के अंदर उसके घर में बैठकर बिजनेस ओपनिंग प्रोग्राम करते समय पांच बेसिक चीजों के बारे में बताकर उसे लिस्ट बनवाने का काम करते हैं तो लंबी लिस्ट बनाना आसान हो जाता है, अपलाइन भी उसकी इसमें मदद कर सकता है।

नामों को याद रखने वाले फार्मूले के द्वारा इस्तेमाल करके जब 100 नामों की लिस्ट तैयार हो जाती है नए डिस्ट्रीब्यूटर को 100 नामों की लिस्ट को देखकर अच्छा लगता है उसे देखकर उसका विश्वास और बढ़ जाता है।

इस लिस्ट को रोजाना अपडेट करने को कहें, जब नेटवर्कर इस लिस्ट पर विचार करता है तो अवचेतन मन उसकी मदद करता है और धीरे-धीरे उस लिस्ट में और नाम जुड़ने लगते है।

नए नेटवर्कर को रोजाना लिखने की आदत से लिस्ट लंबी होती जाती है, जिससे कांटेक्ट और इन्विटेशन करने में आसानी होती है, ज्यादा लोगों से बात करने से ज्यादा प्रैक्टिस होती है और ज्यादा प्रैक्टिस होने से व्यक्ति के अंदर अच्छे निमंत्रण और संपर्क करने की कला पैदा हो जाती है।

अगर नेटवर्कर के जुड़ने के 48 घंटे के अंदर, पांच बेसिक चीजों का क्या महत्व है, बताकर एक लंबी लिस्ट नही बनवाई तो ऐसा पाया गया है कि, बाद में लिस्ट बनाना बहुत मुश्किल हो जाता है।

बाद में लोग चाहते हुए भी लिस्ट नही बना पाते है, बिजनेस में आने के कुछ दिन में ही बगैर सीखे, बिना पूरी जानकारी लिएस बिजनेस के बारे में बात करना शुरू कर देते है और सामने वाले को समझा नही पाते और उनके सवालों का जवाब नही दे पाते है तो उनका खुद का लोगो के प्रति अच्छा अनुभव नही हो पाता है।

और उस समय नया जुड़ा नेटवर्कर खुद निर्णय लेने लगता है, यह काम करेगा यह काम नही करेगा, फिर अपने लीडर के कहने से लिस्ट नही बनाता, उसके दिमाग में यह माइंड सेट बन जाता है कि क्या करेंगे लिस्ट बनाकर क्योंकि हमें उन्हीं लोगों से मिलना है, जो हमसे मिलना चाहते है और उनसे वही बात करनी है जो हमसे कहना चाहते है तो उसमें लिस्ट बनाने का क्या काम है।

दुनिया के सफल लोगों की रिसर्च है कि जब-जब आप उन लोगों से मिलते है, जो आपसे मिलना चाहते है और उनसे वो बात करते है, जो वो करना चाहते है। तब-तब आपको वो नही मिलता जो जिंदगी में चाहिये।

क्या करें जब कोई ना (NO) कहे? –

जब इस बिजनेस को हम दूसरों को दिखाते हैं तो हमारे अवचेतन माइंड में गिनती होती रहती हैं कि हम कितने लोगों को बिजनेस प्लान दिखा चुके हैं और कितने लोगों को बताना बाकी है अगर लिस्ट छोटी होती है तो हमारा विश्वास टूटने लगता है और एक डर पैदा होने लगता है कि कहीं अगले वाले ना कर दिया तो।

बड़ी लिस्ट न होने के कारण बिजनेस करने के लिए हम कुछ लोगों पर निर्भर हो जाते हैं और उनकी बोली हुई ना बिजनेस में ग्रोथ होने से रोकती है, यह डर हमारे उत्साह को कम करता है और बॉडी लैंग्वेज को बिगाड़ देता है और हमें लोगों के सामने गिड़गिड़ाने की आदत सी पड़ जाती है जो हमें सफलता से काफी दूर ले जाती है।

एक बड़ी लिस्ट हमेशा आपका मनोबल ऊंचा करने के काम आती है, ताकि जिसमें कुछ लोग मना भी करें तो इतना फर्क नहीं पड़ता यदि कोई व्यक्ति ‘NO’ कहता है तो उसका मतलब है ‘NEXT ONE’ आप लिस्ट में से अगले व्यक्ति को अप्रोच करें, उसे बिजनेस के बारे में बताएं।

क्यों सभी लोग इस बिजनेस से नही जुड़ते है? –

सबसे पहले हमेशा मन में ये बात रखनी है कि नेटवर्कर को एक सिस्टम के साथ चलना चाहिए, केवल 15% लोग जो पूरे सिस्टम के अनुसार चलते है, 100% क्षमता से स्मार्ट काम करके कम समय में काफी ज्यादा पैसे कमाते है, वे आर्थिक आजादी पाते है, केवल नामों की लंबी लिस्ट बनाने एक कारण।

बिजनेस प्लान दिखाना फ़िल्टर प्रोसेस का काम है, बड़ी लिस्ट होने के कारण ज्यादा लोग फ़िल्टर प्रोसेस से होकर गुजरेंगे तो सही में काम करने वाले आपके साथ जुड़ने वाले 20% एक्टिव और महत्वाकांक्षी लोग मिल जाते है, जिसमें समर्पित होने की भावना और हमेशा अपने में परिवर्तन करने के लिये हमेशा तैयार रहते है।

उन 20% एक्टिव लोगों पर हम अपनी 80% ताकत लगाकर, 80/20 फ़ॉर्मूला का प्रयोग करके एक बड़ा नेटवर्क बिजनेस खड़ा करने में सफल हो जाते है।

जिस तरह से पटाखे की लड़ी जलाते समय उसमें बहुत से पटाखे ऐसे भी होते है जो नही फूटते लेकिन जोर से बजने वाले बाकी के पटाखों के कारण हमारा उत्साह कम नही होता है, कम बजने वाले पटाखों को हम नजरअंदाज कर देते है।

उसी तरह बड़ी लिस्ट होने के कारण हमारा उत्साह कम नही होता, जो लोग मना करते है उसपर ध्यान नही जाता, हां कहने वालों के साथ काम करते चले जाते है, हमें पता भी नही चलता है और सफलता मिलती जाती है।

नेटवर्क मार्केटिंग से लोग क्यों जुड़ना नहीं चाहते है? –

यदि आप एक नेटवर्कर है तो अक्सर आपने इस बिजनेस के प्रति लोगों के मन में ये जरूर देखा होगा कि लोग कुछ भी आगे सुनने के लिए मना कर देते है यदि वे केवल ये समझ ले कि सामने वाला बंदा नेटवर्क मार्केटिंग के बारे में बात करने जा रहा है।

इसके बारे में लोगों के मन में तमाम तरह की चीजें फैली हुई है, जैसे इसमें लोगों को फँसाया जाता है, इसमें लोगों की चेन बनानी पड़ती है, लोगों को लगता है कि इसमें उनका केवल नुकसान है, कंपनी भाग जाती है।

तो वे ऐसा सोचकर गलत नहीं सोचते क्योंकि हर कोई अपने पैसे को सुरक्षित रखना चाहता है और संभावित खतरे से हर कोई दूर जाना चाहता है, भले ही वह उसके फायदे के लिए ही क्यों न हो।

यदि व्यक्ति कोई ऐसा है जिसे आपका सीधा संबंध है जैसे आपका खास दोस्त, घर परिवार के सदस्य, रिश्तेदार आदि है तो उन्हें इसके बारे में समय देकर ध्यान से इसके बारे समझायें, इस बात की अधिक संभावना है कि वे आपकी बात को मान लेंगे।

और यदि कोई अजनबी है जिससे आप अपने बिजनेस प्लान को बताना चाह रहे है और वह आपको अपने पिछले कंपनी के अनुभव के बारे में बताना चाह रहा है जो कि सही नहीं था तो आप यह समझने कि कोशिश करें कि सामने वाला आपकी बातों में intrested है या नहीं, यदि ऐसा नहीं है उसकी इच्छा नहीं है तो ऐसे लोगों को जाने दें आप अन्य लोगों से बातचीत शुरू करें।

नेटवर्क मार्केटिंग का नाम खराब क्यों है? –

ऐसा नहीं है कि यह बिजनेस सही नहीं है अगर इक्कीसवीं सदी के सबसे अच्छे बिजनेस आइडियाज की बात करें तो यह इस सदी का सबसे बेहतरीन बिजनेस मॉडल है, जिसने इसको एक बार ठीक से समझ लिया न तो फिर उसकी लाइफ बन सकती है, लेकिन जब ये इतना बढ़िया बिजनेस मॉडल है तो फिर इसका नाम इतना खराब क्यों है लोग नेटवर्क मार्केटिंग का नाम सुनकर इससे दूर क्यों भागना चाहते है?

इसके कई कारण है ऐसी कुछ कंपनियों के साथ मेरा खुद का अनुभव रहा है, जिन्होंने कुछ ऐसा किया कि कोई व्यक्ति दोबारा नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing Kya Hai) की तरफ देख भी नहीं सकता है, इस इंडस्ट्री का नाम उन कंपनियों ने खराब किया –

1- जिन्होंने अपने बिजनेस को शुरू करते समय ही बंद करने का समय निर्धारित कर दिया –

इस लिस्ट में ऐसी हजारों कंपनियां है जो इस तरह फ्रॉड का काम करके लाखों लोगों के विश्वास के साथ खिलवाड़ किया, एक छोटे से प्रॉफ़िट के लिए पहले तो ये कंपनियां बनाई जाती है, फिर जैसे ही ये अपने टारगेट प्रॉफ़िट के पास पहुंचते है, कम्पनी बंद करके भाग जाते है।

ऐसी ही एक कंपनी जिसके साथ मेरा खुद का अनुभव रहा है, नई-नई मार्केट में आई, जो कि मोबाईल रिचार्ज को काफी सस्ते दामों में बेचा करती थी, सेम प्लान को कोई नेटवर्क प्रोवाइडर तीन महीने के लिए दे रहा होता है ये लोग उसी प्लान को पाँच महीने के लिए दिया करते थे।

इस कंपनी के प्लान को लेने लिए 100 रुपये देकर कंपनी में जुड़ना होता था, फिर रिचार्ज कराना होता था, जिसके बाद ये नेटवर्क प्रोवाइडर का एक-एक महीने का रिचार्ज कराते थे, मतलब पूरे पाँच महीने का एक साथ न होकर हर महीने का ये एक रिचार्ज किया करते थे।

और इस तरह बाकी के महीने के पैसे कंपनी के पास जमा रहते, इस तरह से जब कंपनी के पास अच्छी खासी रकम जमा हो गयी तो ये अपना बिजनेस बंद करके भाग गयी।

जब कोई इनसे जुड़ता तो नेटवर्कर को ये कमीशन दिया करते थे जिसके कारण काफी तेजी से सब फैला लाखों लोगों ने रिचार्ज कराये, जब कंपनी के पास लोगों के ये पैसे जमा हो गए तो इन्होंने अपनी वेबसाईट और सर्वर को बंद कर दिया क्योंकि ये अनलाइन बिजनेस रन कर रहे थे।

2- इस बिजनेस में फेल होने वाले लोग –

इस बिजनेस का नाम उन लोगों ने भी खराब किया, जो इस बिजनेस में सफल नहीं हो पाए और एक कंपनी से दूसरी कंपनी में आते-जाते रहे उन लोगों ने इसका नाम खराब किया और वापस जाकर इसकी इतनी बुराई करी की कोई जुड़ने की भी सोच नहीं सकता।

याद रखिए जो व्यक्ति एक जगह टिककर काम नहीं कर सकता वो कहीं भी कुछ नहीं कर सकता, यदि किसी को सफल होना है तो कोई भी सही काम करने वाली कंपनी हो उसे सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।

लोग नेटवर्क मार्केटिंग में फेल क्यों होते है? –

ऐसे कई कारण है जिनकी वजह से लोग यहाँ पर आने के बाद फेल हो जाते है, जाने-अनजाने वे ऐसी गलतियाँ करते है जो उन्हें नहीं करनी चाहिए, हम कुछ ऐसी ही गलतियों के बारे में बात करेंगे जो कि एक अच्छे नेटवर्कर को नहीं करनी चाहिए-

बिजनेस प्लान को ठीक से न समझना –

यदि आप काम करने को लेकर उत्सुक है तो सबसे पहले प्लान को देखें समझे, किसी के सामने प्रेजेंटेशन देने से पहले घर पर सदस्यों के सामने इसकी प्रैक्टिस जरूर करें, जब भी आप अपने प्लान को किसी के सामने बताते है तो लोगों के अलग-अलग तरह के प्रश्न होते है, ऐसे प्रश्न जो सबसे अधिक पूछे जाते है उन्हें अपने अपलाइन से बैठकर पहले समझ लें और जो प्रश्न हर व्यक्ति के हिसाब से अलग होते है, उनके बारे में बाद में डिस्कस करें और इन सारी चीजों को एक नोटबुक में जरूर लिखें।

अपने लीडर के अनुसार नहीं चलना –

शुरुआत में अपने लीडर के कहे अनुसार चलें क्योंकि उनको पिछले कुछ समय का अनुभव रहा है, अपने अपलाइन की बातों को मानते हुए शुरुआत में प्लान दिखाने की कोशिश करें, अगर इसमें अपने से कुछ बदलाव करने जा रहे है तो इसे अपलाइन से जरूर बताएं यदि वे इसको करने के लिए कहते है, तभी उसे लोगों के सामने ले जायें अन्यथा नहीं।

एक कंपनी को छोड़कर दूसरी कंपनी में जाना –

बार-बार कंपनी न बदलें यह आपके अथॉरिटी को कम करता है, लोग आपकी बातों को सिरियस नहीं लेते है, एक बार किसी कंपनी का प्लान लेकर अपने दोस्त के पास जाते है और दूसरी बार किसी दूसरे कंपनी का प्लान दिखाते है तो ऐसा भूल कर भी न करें, किसी एक कंपनी के साथ जाएं और उसमें लगे रहे, यदि कंपनी अच्छी नहीं और बदलनी है तो शुरुआत में ही ये सब कर लें।

अगर दो अलग-अलग कंपनियों के नेटवर्कर के बीच फंसे हो कि कौन सी कंपनी को ज्वाइन करना है तो हमेशा उस कंपनी के साथ जाएं जो आपको सही लग रही है जहां पर आप खुश रहकर काम कर सकें।

खुद के अंदर सीखने की इच्छा न होना –

दुनिया का चाहे कोई भी काम हो जहां पर व्यक्ति के अंदर सीखने की इच्छा नहीं होती वह आगे नहीं बढ़ पाता, इस बिजनेस में सफल होने के लिए आपके अंदर सीखने की प्रबल इच्छा होना जरूरी है।

प्लान न दिखाना –

रोज कुछ लोगों से अपने बिजनेस प्लान को अवश्य दिखायें, इसे अपने डेली रूटीन में शामिल करें, याद रखें जितना ज्यादा लोगों से मिलते है टीम में लोगों के जुडने के चांस बढ़ते जाते है।

नेटवर्क बिजनेस में अपने ग्रुप को नेगेटिविटी से न बचाना –

कितना भी बड़ा ताकतवर नेटवर्क नेटवर्क ग्रुप हो उसे एक नेगेटिविटी से काफी नुकसान पहुँच सकता है, क्योंकि नेगेटिव चीज बहुत जल्दी पहुँचती है, ग्रुप में जहां-जहां से गुजरती है उसकी ताकत मल्टप्लाइ हो जाती है।

क्योंकि इस बिजनेस में हर चीज मल्टप्लाइ हो जाती है चाहे वह अच्छाई हो या बुराई, इसलिए अपने ग्रुप को नेगेटिव सोच रखने वाले लोगों से बचाते रहना है, ऐसे लोग खुद तो खराब होते ही है ये जहां जाते है वहाँ बुराई फैलाते है।

नेटवर्क मार्केटिंग को शुरू करने वालों के लिए संदेश –

इस बिजनेस में आप सफल हो या ना हो लेकिन अगर आपकी ट्रेनिंग अच्छी होती है, कंपनी में लोग अच्छे है, कंपनी का मोटिव, फिलोसोफी… कैरेक्टर पर आधारित है, ईमानदारी, कैरेक्टर, सिद्धांत, आचार-विचार और टीम वर्क पर ध्यान दिया जा रहा है तो अगर आप इस बिजनेस में फेल भी हो जाते है तो भी नेटवर्क मार्केटिंग को ज्वाइन करना चाहिए।

क्योंकि जहां पर लोग अच्छे होंगे, उसके बीच टीम वर्क हो और उनकी फ़िलोसोफी अच्छी हो ऐसे लोगों के बीच आप मौजूद रहकर सफल हो जायेंगे और अगर ऐसा ना भी हो तो ऐसे माहौल में रहने से आपके अंदर जो बदलाव आएंगे कि आपका ग्रोथ अपने आप हो जाएगा।

यह दुनिया की एकमात्र ऐसी फील्ड है जहां लोग बिना तनख्वाह के आते है और जुड़ जाते है अपने काम को करने का इतना ज्यादा Motivation रखते है, जो कहीं भी, किसी अन्य जॉब/बिजनेस में नहीं देखने को मिलता है।

Summery Of The Article –

तो दोस्तों नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing Kya Hai) के बारे में यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं और यदि आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो उसे नीचे कमेन्ट बॉक्स में लिखना न भूलें, नई पोस्ट की नोटिफिकेशन अपने फोन में पाने के लिए, बेल आइकॉन को दबाकर नोटिफिकेशन को Allow करना न भूलें, साथ ही ऊपर दिए गए स्टार वाले आइकॉन पर क्लिक करके इस पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें, धन्यवाद।

रोज कुछ नया सीखें… हमारे Instagram पेज को फॉलो करें –

4.1/5(38 votes)
Spread the love

A Student, Digital Content Creator, Passion in Photography... Founder of Tech Enter. यहाँ पर आपको, योजना, एजुकेशन, गैजेट्स रिव्यू, टेक्नॉलजी, क्रिप्टो, पैसे कमाने के तरीके, फैशन& लाइफस्टाइल तथा ढेर सारे टॉपिक्स से जुड़ी जानकारियां मिलती रहेंगी Follow Us » Facebook Instagram Twitter Quora

Leave a Comment